Thursday, May 24, 2018

घुसर आकाश आंधी से घुटा-घुटा सा

हवा चिघाड़ती सी
सब कुछ रौंदती
लाचार पेंड- पौधे नतमस्तक
आपस मे ख़ुसूर-फुसुर करते कमरे के परदे
अजीब हतासा से फड़फड़ा रहे
बाहर पीली भूरी रेत ही रेत छाई हुई
घुसर आकाश आंधी से घुटा-घुटा सा
ऐसे सांझ से उबरना मुश्किल
अकसर भीतर का घना अवसाद
सूरज की बुझती रोशनी के साथ
और तीब्र हो
निकट और निकट चमकना शुरू कर देता है
मन छटपटाने लगता है
बरबस पुकार निकली
कोई है !कोई है! जो
भीतरी सलवटों को छूकर
पावस कर दे?
गहरी सांसें आती है और बताती
उसे अपनी दायरों को खुद भरना होगा
सत्व और चेतना का विस्तार करना होगा
तभी यह एकांत उसके आत्म का अंग बनेगा
एक दिन यही समय उसका अपना होगा
उसके वशीभूत होगा...!

Wednesday, March 21, 2018

एक पकती औरत

खाली ...बेरंग...बेबस कैनवास सी

मीलों लम्बी सड़क के साथ - साथ पड़ी लावारिश ज़मीन सी

एक पकती औरत

प्रेम संवाद

खुद से भी तो नही करती

बिना बोले चुपके से

अपने कानों में दुहरा लेती है

या सहमकर चटख रंग पहनने लगती है

और नही तो अकेले में

रो-रो लेती है...।

Thursday, March 15, 2018

डायरी के पन्ने (पटना से निकलने वाली सामयिक परिवेश पत्रिका के छपी )



गाजियाबाद स्टेशन पर ट्रेन में जैसे ही चढ़ी ,चढ़नेके साथ ही ट्रेन खुल चुकी थी..हम पति पत्नी अपने एक सीट पर सामान रखते हुए भीड़ की ठेलमठेल के आगे जाने का इंतज़ार कर रहे थे तभी मेरी नजर उस लड़की के पाँव पर पडी जो मेरी दूसरी सीट के नीचे बिना चादर के छुपी हुई सी लेटी दिख रही थी !
दिल्ली से इलाहबाद जाने वाली गाड़ी एस फोर के डिब्बे में बहुत मुसाफिर नहीं थे। मेरे सामनेवाली सीट के नीचे एक तक़रीबन सोलह सत्तरह साल की लड़की  कंपकपा रही थी एक झलक देखने से प्रतीत हो रहा था कि वह बहुत डरी हुयी और किसी के आ जाने का भय उसे सता रहा था ! जैसे भीड़ छंटी मैं सीट पर चादर सीट के नीचे तक फैला कर  बिछा दी ,कुछ अनहोनी की आशंका ने मुझे बेचैन कर दिया था ! फिर इनकी सीट पर चादर बिछाई और इन्हें आराम करने को कह कर बाशरुम के दरवाजे तक गयी,वहां लगे बेसिन में नल को चला मुंह धोई और वापस अपने सीट पर आ बैठी ! संयोग से हमें आमने-सामने की लोअर बर्थ मिली थी, मिडिल और ऊपर वाले यात्री शायद दिल्ली से ही चढ़े होंगे क्यूंकि रह -रह कर किसी न 8किसी के खर्राटे की आवाज उभर रही थी ! थोड़ी देर में ही इन्हें भी खर्राटों ने जकड लिया...
धीरे से चादर को उठाते हुवे उस लड़की को मैंने ये कहा की बाहर निकल कर ऊपर सीट पर बैठो ! पहले तो वो डर से निकल ही नहीं रही थी । जाने क्या सोच कर उसे मुझ पर विश्वास हो आया और वह सकुचाते देह को सिमटते और लगभग घसीटते हुवे बाहर निकली..जैसे उसकी देह के पोर-पोर में घाव हुआ हो ! 
प्यार से मैंने इशारा किया की ऊपर मेरी सीट पर खिड़की साईड में बैठ जाओ..मुझसे डरने की आवश्यकता नहीं है और अपना एक बड़ा सा काटन का दुपट्टा निकाल कर उसे दे दिया कि अगर उसे डर सता रहा हो कि कोई देख न ले तो इसे ओढ़ कर अपने बाकी के पूरे देह को ढकने जैसे  कर ले ! उसने वैसा ही झट से किया और खिड़की की तरफ देखने लगी !
उसी बीच टीटी साहब की रौबदार आवाज टिकट दिखाने की...मोबाईल से मैंने अपने दो टिकट दिखाते हुए टीटी से आग्रह की कि एक टिकट और बना दें..अचानक से बिटिया की तबियत खराब हुई तो इसे भी साथ ले जाना पड़ रहा है पढ़ाई छुडाकर...जाने कैसे मैं इतना बड़ा झूठ बोल गयी...जबकि ऐसे मामले या तो जीआरपी वालों को सूचित कर दी जाती है या टीटी से बताकर कोई हल निकाली जाती है...पर अन्तकरण में छुपी एक स्त्री की आवाज ने आज इस घडी में झूठ भी बुलवा दिया..मन में अनगिन आशंकाएं उठ रही थी की जब तक मैं इसके बारे में कुछ जान ना लूँ मैं कोई अन्य सहायता या एक्सन नही लूंगी..
सितम्बर का महीना था ,ना ज्यादे गर्म ना सर्द ...गाड़ी तेज  रफ्तार से चली जा रही थी, खिड़की से आते हवा चेहरे को सुकून तो दे रही थी पर मन में मेरे भी बवंडर सा तूफ़ान था ...आखिर ये लड़की अकेली कहाँ से आ रही है..ऐसे क्यूँ डरी हुई है बार -बार चिहुंक सी जाती है मेरी आवाज पर जैसे कि मैं यमराज हूँ उसके प्राण हरने आई हूँ..घंटों मैं भी मौन और वो तो जाने कहाँ खोई थी..बस कभी-कभी उसकी सिसकियों की आवाज कानो में आ रही थी...
मौन तोड़ते हुए मैंने अपने थैले से जूस का डब्बा निकाला और एक ग्लास में उड़ेल कर उसे देने लगी...पहले वह इशारे से ना ना करी फिर जाने क्या सोचकर  एक सुर में पूरा ग्लास का जूस अपने हलक से नीचे उतार ली...मेरी तरफ देखते हुवे पहली बार उसकी आवाज सुनाई दी की पानी भी है क्या...मुझे तो जैसे क्षण भर को विश्वास ही नही हुआ कि इसने बात किया है...फिर मैं बिस्किट का पैक निकाल कर उसे जबरदस्ती पानी के साथ दिया..इसी लेंन -देंन  के चक्कर में मुझे महसूस हुआ कि उसे तो जोरों का बुखार है...
आदतन मैं अपने साथ बुखार ,उल्टी दस्त की दवा और इलेक्ट्राल इनो अवश्य रख कर चलती हूँ ,एक बार पेट दर्द की बिमारी से ट्रेन में चार घंटे तड़पी थी ट्रेन में तबसे ये आदत पड़ गयी कि इतनी दवाएं पास में रख कर चलनी ही चलनी है ! 
हाँ तो जब वो दो -  चार बिस्किट खाकर पानी पी चुकी तो मैंने एक क्रोसिन निकाल कर उसे थमा दिया वो चुपचाप दवा खा गयी...
अधलेटे बैठे-बैठे हलकी हल्की नींद भी आने लगी...गाडी की रफ़्तार कम होने लगी थी तो लगा कोई स्टेशन पर गाडी पहुँचने वाली है ..कानो में आवाज आई कानपुर..शायद तीन बजने को थे...देख रही हूँ उस लड़की की आँखों में शायद नींद का भारीपन भी नही आया था... बड़ी-बड़ी आंखे सुतवा नाक...करीने के होठ ,गेहुआं रंग ..आकर्षक सी वो बाला जिसकी आँखे फटी सी बस अंदर के कोलाहल में डूबी थी..
मैं ही अपने कपडे ठीक करते हुए उठी..थोड़ा पानी पी..और अब मन बना चुकी थी कि इससे पूछना है की कहाँ से आ रही हो..कहाँ जाना है..तुम्हारी क्या सहायता कर सकती हूँ..इतना तो जाहिर था कि वो खुद को कहीं से बचाकर ट्रेन का सहारा ली है..
तब उसे ही लगा की आंटी आप मेरी वजह से पुरी सीट पर आराम भी नहीं कर पाई..मैं वहां नीचे लेट जाती हूँ इस सीट पर आप लेट जाइए..
उसकी बाजू पकड़ते हुए मैंने उसे मना कर दिया ..पास के गुजरते एक चाय-चाय की आवाज लगाते लड़के से दो कप चाय ली एक उसे थमाकर दूसरा खुद पीने लगी..और पूछ लिया..कहाँ जाना  है बेटा?
सपाट सा जबाब..पटना .. ..।
पटना में कहाँ...?
कंकडबाग से किसी गाँव साईड एरिया बताई..मुझे याद नही गाँव का नाम ..।
कहाँ से आ रही हो..ट्रेन में कहाँ से चढ़ी हो?
दिल्ली से...
मयूर विहार इलाके में अपने गाँव के मुखिया की बेटी के यहाँ रहने आई थी दो महीने से..
रहने क्यूँ आई थी ?
मुखिया साहेब की बेटी और उनके मेहमान का बड़ा बिजनेस है ..उनकी डेढ़ साल की बच्ची को सँभालने के लिए मुखिया साहेब माँ को  बोले थे कि भेज दो इसे मेरी बेटी के साथ....ये घर पर रहेगी..अपने घर जैसा है..बाकि काम के लिए दूसरी बाई है इसे बस बच्ची को और घर की देखभाल करनी है अपने घर जैसे ! 
तुम्हारी माँ क्या करती  हैं?
माँ मुखिया जी के यहां और कई घरों में बर्तन माजती है और बाकी समय मुखिया जी के यहाँ का गेंहू, दाल ,चावल पछोरना रखना..यही काम करती है ।
पापा..?
बाबूजी  नही हैं इस दुनिया में... हम पांच बहन एक छोटा भाई हैं..दो बहिन का विवाह हो चुका है ,मैं चौथे नंबर की हूँ ! मुखिया जी ही बहुत सहायता कर देते हैं हर समय...विवाह  का खर्चा भी वही उठा देते हैं ज्यादे से ज्यादे जितना कर सकते हैं उतना । तो माँ मना नहीं कर पाई..और मैं जून की छुट्टी मनाने आई उनकी बेटी के साथ दिल्ली चली आई उनके घर रहने ! 
बात बहुत साफ़ हो रही थी अब..मैंने पूछा की इतनी जल्दी वापस क्यूँ जा रही हो..या कोई लेने या पहुँचाने क्यूँ नही जा रहा है...?
मैं दीदी को बिना बताये भाग कर जा रही हूँ अपने गाँव..
दीदी को क्यूँ नही बताई...?
आज सुबह से कोई पार्टी आने वाली थी बिजनेस के ही सिलसिले में ..दीदी का मीटिंग था रात तक वो आई नही थी...।
कितना पढ़ी हो..या अभी पढ़ रही हो?
आठवी तक बस..
तो बिना बताये क्यूँ चल दी...?
चल देना जरुरी था ,मैं दीदी से झूठ नही बोल पाती और सच उनके जीवन का जहरीला नाग हो जाता..वो अपने पति को बहुत प्यार करती हैं ...सुना है की प्यार करके शादी की थी..और वो पति...अपने एक मित्र के साथ आज साढ़े पांच  बजे शाम  में अचानक से घर आ गया । मुझे चाय बनाने को बोलकर बच्ची को  ले लिया..मैं चाय लेकर आ रही हूँ तो दोस्त और बच्ची कोई नही दिखा..जो दिखा तो दीदी के पति के रूप में ना दिखकर एक  दरिंदा दिखा जो मुझपर टूट पडा था...मैं खुद को बचा नही पाई और वह फूट फूट कर रोने लगी...घंटो मुझे नोचता खसोटता रहा...और जब बाहर गया तो बाहर से ताला बंद कर गया ..धमकाते हुये की एक घंटा  में आउंगा बच्ची को लेकर तब तक तुम नहा कर अपने को संभाल लो..
उसके जाते ही मैं पिछले दरवाजे को खोल कर जो इंटरलॉक रहता था उसका ख्याल उसे नही आया था मैं उसे खोली बाहर हुई और लॉक करके चाभी घर के अन्दर दराज से डाल स्टेशन भाग आई....।
तुम स्टेशन कैसे आई ,पैसे लेकर घर से...? भागने में पैसे का कहाँ ख्याल रहा होगा...
नही...ऑटो पर बैठके आई पर ऑटो वाले को एक कान की बाली दे आई.. ऑटो वाला मुझे रोक कर जानना चाहा ..अन्धेरा हो चला था...ऑटो वाला और यात्रिओं से पैसा लेने लगा तो मैं भाग कर स्टेशन में घुसी... भागते-भागते प्लेटफार्म नंबर सोलह पर यही गाडी कड़ी दिखी और एनाउंस हो रहा था की इलाहबाद तक ये गाडी जाएगी..मुझे याद आया की इलाहाबाद होते हुवे मैं पटना से आई थी तो मैं इसी ट्रेन के बाथरूम में घुस गयी .. बाद में खडा नही हुआ जा रहा था तो आकर इस सीट के भीतर घुस कर दुबकी रही...एक घंटे तक तो किसी ने देखा नहीं पर जब ट्रेन रुकी तो आप जब चढ़ी तो देख लीं...और अबकी वो और जोर से रोने लगी...उसकी आवाज सुन मिडिल बर्थ पर सोये एक यात्री ने मुंह उठाकर नीचे झाकने लगा..अंदेशा समझ मैं उसका सिर सहलाते हुवे बोली की तेज बुखार में सीर दर्द होता है..बर्दाश्त करो बेटा...यात्री समझ गया की तबियत ख़राब है वो फिर मुंह घुमाकर सो गया...
इशारा करके उसे चुप कराई ...
कब इलाहाबाद गाडी पहुंची मुझे होश नही रहा... होश तब आई जब ये बोले की उठो चादर वगैरह पैक करो...और ये कौन है जिसे सुलाई हो..? अब मेरे सामने समस्या ये थी कि इसे कैसे इसकी माँ तक पहुचाऊं ...रोने के बाद सुबकते सुबकते उसका सीर मेरे कंधे से होते हुवे गोदी में  आ गया था ..और वो बहुत चैन की सांस लेते हुए आँख बंद कर मेरी गोद में पड़ी रही...
उस समय कुछ बता नही सकी इनको..इशारा बस की कि उतरते हैं तो...
ट्रेन से उसे भी उतारना था...उसके गंतव्य तक भेजने का निश्चय मैं मन ही मन कर चुकी थी..पर कैसे..कहीं रस्ते में फिर कुछ न हो..इसी उधेड़बुन में प्लेटफार्म पर उतरी उसे लिए और इनसे कहा  कि वेटिंङ्गरूम तक चलें..
वेटिंङ्गरूम तक जाने में कितनी परेशानियां आई..उसको चादर ओढा कर ले जाना पडा...ढकते ढूकते...क्यूंकि उसके कपडे खून से लत -फत थे... जिस  चादर  पर बिठाई थी वो चादर भी खराब हो चुका था ....वेटिंगरूम जाकर  उसे बाशरूम में ले  गयी..सारे कपडे उसके चेंज कराई...मेरे कपडे  ढीला ढाला  हुए पर उतनी सुबह मजबूरी  भी थी..अंडरवियर साथ में काटन वाला सलवार फाड़ कर थमा दी थी कि अब जो कपड़ा पहने वो ब्लीडिंग से ख़राब ना हो...पता नही ब्लीडिंग हो भी रहा था या नही ,सुरक्षा बस सब जरुरी लगा।
सुबह कोई दूकान खुला भी तो नही था...नहाकर निकली चल नही पा रही थी ,लपककर  मैंने सहारा दिया और ब्रेंच नुमा चेयर पर लिटाया.. इनसे आग्रह ही की कि कोई डाक्टर मिल जाता तो.. 
उसको कहीं बाहर लेकर जाना भी उचित नही था..इन्होने कहा की तुम रुको मैं घर से लौट के आता हूँ....
ये चले गये उस बीच  उसे चाय और टोस्ट लेकर खिलाई और क्रोसिन फिर से दिया..मन होता था घर ले जाऊं..पर केवल मेरे मन से क्या होना था..ये पुरुष हैं ..हमसे समझदार हैं..इन्होने दुनिया देखी है , इनका कहना था की इलाहबाद स्टेशन पर यहाँ के जीआरपी पुलिस में इतल्ला कर देते हैं..पहुँचाने की जिम्मेदारी उनलोगों की ही होगी... पर जाने क्यूँ मेरा मन नही माना..दिमाग तुरंत जबाब दिया की नही.. तुझसे जितना हो सकता है कर दे.. पुलिस वगैरह को तो बिलकुल खबर ना कर...!
जब ये घर से लौटकर आये तो साथ में इनके हमारे फेमिली डॉक्टर थे..। सब कुछ शायद इन्होने पहले ही बता दिया था ..आते ही वे सरिता को इंजेक्शन दिए ,कुछ दवाएं लाये थे ..जिसमे से एक खुराक खिला दिया गया ! साथ में ये सेव केला जूस और बिस्कुट्स लेते आये थे जिन्हें एक थैले में मैंने रखा.. ।
उसके खून से लतफत कपडे को एक थैले में रखकर दो तीन पैकेट के भीतर संभाल दी ये कहकर कि कहीं तुम्हारे माँ को पुलिस थाने  जाने की जरूरत हुई तो ये प्रूफ काम आयेगा ! 
सब इकठ्ठा एक बड़ा थैला में नीचे ऊपर करके रख दी कि यात्रा करते समय किसी दुसरे के मन में ये न आये की खाली हाथ क्यूँ है ..
पतिदेव ने टिकट कटा दिया...हम पटना जाने वाली ट्रेन का इंतज़ार कर रहे थे की ये तो सरिता को सुरक्षित संतोषजनक स्थान पर बिठा दें..ट्रेन दो घंटे बाद की थी..
सरिता को इंजेक्शन के कारण या आराम मिला होगा उसे झपकी आ गयी...उसके चेहरे को मैं निहार रही थी...मासूम सी बिलकुल छुई-मुई सी दिख रही थी  जिसे उस दरिन्दे ने रौद डाला..जगह जगह खरोच के निशान.. ओह्ह रे हैवान उसे तनिक दया तक नही आई इस कोमलांगी को देखकर..?... क्या उसे इसमें अपनी बिटिया का अक्स नही दिखा ...जिस बिटिया का गू-मूत तक ये करती थी वहां रहकर ? उसकी तकलीफें देखकर मैं भूल गयी थी कि मैं खुद अपनी दवा कराकर , घूटने में इंजेक्शन लगवाकर वापस लौट रही थी..जबकि पिछले दो महीने में ये इंजेक्शन लगा तो लगे की चौबीस घंटा चलना फिरना मुश्किल ..पर अबकी क्या हो गया है जो मुझे अपनी तकलीफ याद तक नही रही...उसके दुःख को आत्मसात करना चाह कर भी नही बाँट पा रही थी उसकी तकलीफें ! डाक्टर को जाना था वापस..उन्होंने कहा की ब्लीडिंग रूक जाये उसके लिए और बाकी तकलीफों के लिए दो इंजेक्शन लगा दिया है..आप परेसान मत होइए इसे आराम मिल जाएगा जल्द ही ! डेढ़ घंटे सोई रही सरिता ,आँख खुली तो कुछ आराम सा मसूस हो रहा था उसे ! मुझसे नजर मिली तो असफल  मुस्कुराने का प्रयास की , उसके केश को मैं गूथना चाहती थी ..इशारा की तो खुद ही उसने कंघा फिराया अपने बालों में.. स्टेशन से ही पूड़ी सब्जी लेकर उसे खिलाई ..इन्होने पांच सौ रूपया मुझे दिया की उसे दे दो ..साथ में थोड़ा चेंज मेरे पास था ...मिलाकर उसे दी की अपने पास ठीक से रख लो ..पटना उतर कर ऑटो रिक्शा वगैरह जो भी रिजर्व तुम्हारे घर तक जाए चली जाना..
ट्रेन आई ग्यारह बजे ..स्लीपर बोगी की तरफ हम लोग लेकर गये..और टीटी से बात करके एक सीट ले ली..और उसे बिठा दिया.. दस मिनट मैं भी बैठी रही उसके पास..फुसफुसाहट में समझाई भी की किसी और से जिक्र नही करोगी जब तक घर नही पंहुचा जाती तुम ! वो हाँ..हाँ में सर हिलाती रही...खाने पीने की हिदायत दी और एक पन्ने पर अपना मोबाईल नंबर लिखकर दे दी कि घर पहुँचकर उचित लगे या सम्भव हो तो मुझे बता जरुर देना..और अपनी माँ से बात करा देना ..बगल में एक सम्भ्रान्त महिला से बता दी की मेरे पास रहती थी अभी माँ के पास जाना है..इसकी माँ की तबियत खराब है तो रास्ते में जरा सयानी बिटिया का ख्याल रखियेगा ,,चुकि मेरी भी तबियत ठीक नही है वरना मैं गाँव तक छोड़ के आती.. महिला अच्छी ही थी..और सरिता खुद को बीमार दिखने से काफी बचा रही थी..इन्होंने इशारा किया कि ट्रेन अब खुलेगी...नीचे उतर कर खिड़की पर खड़ी हो जाओ तब तक...! 
ये सुनते ही वह बैठे-बैठे ही मुझे जोर का भींच ली...माँ.....कहती हुई जार-जार रोने लगी...मैं भी खुद को कहाँ रोक पाई थी..रात से जितना कुछ अन्दर घुमड़ रहा था ...बरस जाना चाहा...और पुक्का फूट पडा... एक दुसरे में चिपकी हम दोनों को यही आकर अलग किये जब ट्रेन रेंगने लगी थी...दूर तक जाती हुई ट्रेन की खिड़की से झांकती उसकी दो कमल सी आँखे भूलती नही आज भी...घर आकर निढाल पड़ गयी..शक्ति ही नही कि खुद को हिला डूला सकूँ..
चेतना वापस लौटना शुरू की रात आठ बजे के बाद जब एक किसी पीसीओ से फोन आया था जिसमे सरिता की मद्धम ही आवाज कि मैं घर पहुँच गयी..मेरी माई से बात कर लीजिये..
मैथिलि और हिंदी मिक्स भाषा उसकी माँ का काफी डरी और रोती हुई आवाज...जो मुझे समझ आया था की भगवान् आपके बाल बच्चा को हमेशा खुश  रखें आपकी फुलवारी खिली रहे...
ये पूछने पर कि कोई कार्यवाही आप करेंगी उस इंसान के लिए जिसने आपकी बिटिया के साथ ऐसा किया...
जबाब था..क्या करुँगी..कुछ नही...समाज में रहना है..अभी गाँव  निकाला हो जाउंगी और भी बच्चे हैं सबकी जिन्दगी बर्बाद हो जायेगी..पर अब अपनी बच्चियों को कहीं नही भेजूंगी मेमसाहेब कहीं नही....!
वसुन्धरा पांडेय

Wednesday, September 27, 2017

स्त्रियां कितनी तरह से बोलती हैं


सामने की सीट पर
खिड़की से सटे बैठी वो
बाहर तेजी के साथ भागते दृश्य को
निरेखती, कभी मुस्कुराती कभी शांत और
उद्धिग्न हो उठती...
बालों की उड़ती लटें,माथे की बिंदी का उजास
कानों के मचलते कुण्डल
इधर-उधर हिलते हाथों से
चूड़ियों की झनकार
भौहों ,होठों का बारिक विष्रेप...

स्त्रियां कितनी तरह से बोलती 

Friday, July 14, 2017

औरतें प्रेम में तैरने से प्यार करती हैं




ऐसा नही था कि
वह रोमांटिक नही थी..
पर दमन भी तो था उतना ही

तुम्हे देख
बह निकली थी अदम्य वेग से
समन्दर को लपकती है जैसे नदी

अब जब विचारणा
मस्तिक से गायब है
कुड़कुड़ाहत बेचैनी शांत है
तुम्हे रख लिया है उसने सम्भालकर
हथेली के छाले की तरह

पता है उसे
प्रेम उसका अर्पित है
सदा-सदा के लिए
अंकुरा गई है फिर भी
उसकी आशाएं,आकांक्षाएं फिर से

बादलों की फुईयों से
गुंजायमान हो उठी हो घाटी जैसे
तुम्हे प्यार करते
वह घाटी के विस्तार को
पार कर चुकी है
गहराई में डूब गई है
दोहराते हुवे प्रेम
उसके पोर-पोर से
किरणों के सदृश्य फूटता है प्रेम

तुम्हे प्यार करते हुवे
पहली बार जाना उसने
औरतें प्रेम में तैरने से प्यार करती हैं
औरतें प्रेम के लिए जीती हैं
औरतें प्रेम के लिए मरती हैं...!

       वसुन्धरा पांडेय