Monday, May 13, 2013

तेरा आना

तेरा आना
मुखर कर जाता है मुझे
मेरी निसंगता को
धीमे से छेड़ जाता है

सच कहूँ तो
एक पल को आते हो
कई जन्मो -की प्यास
तृप्त कर जाते हो...!