Thursday, November 14, 2013

गाँवों में

सुबह-शाम
वहां धुआँ उठता है

पेंड़ो के झुरमुटों से ,उठता
छल्ले से उभरते

आह !

कितना सुन्दर लगता है
छल्लो के पार झाँकना ...!!