Wednesday, November 27, 2013

चांदनी रात में


भीने-भीने उजाले में
गीत गाना
गुनगुनाना

चाँद को छोड़
तारों संग इठलाना

ओसकणों से
देंह सुन्न ,बेसुध हो जाना..

कितना सुखद लगता है ... !!