Monday, December 30, 2013

हे मेरे

अचीन्हे अतिथि
मेरे जीवन की प्रभाती

वर्षों से प्रतीक्षारत
जिसकी बाट जोहती मैं

मेरे अनुत्तरित प्रश्नों के उत्तर
कहीं तुम ही तो नहीं ..?



(100 वां पोस्ट के साथ नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये आप सभी को !)